Benefits of eating peanut butter

पीनट बटर (peanut butter) जिसे हिन्दी में मूंगफली का मक्खन भी बोला जाता है आज कल इंडिया में बहुत प्रचलन में है। पहले बहुत कम लोग इसके बारे में जानते थे। 2009 या 2010 के आस-पास कुछ भारतीय कम्पनियो ने पीनट बटर (peanut butter) बेचना शुरू किया तभी से लोगो ने इसको जाना और इसकी खपत (consumption) बढ़ना शुरू हो गयी। तब से अगले 5-6 साल मार्किट में ज्यादा इसकी डिमांड नहीं रही। 2018 के बाद एक दम से इसकी डिमांड बढ़ गयी। पहले ये ज्यादातर बड़े शहरो में ही मिलता था फिर धीरे-धीरे छोटे शहरों कस्बों तक आया और ऑनलाइन शॉपिंग के चलते तो अब ये कही भी मिल जाता है।

अगर हम अपने रोज के खाने की बात करें तो आज भी पीनट बटर का हमारी रसोई में कोई ख़ास स्थान नहीं है। जो लोग सुबह में नाश्ते में ब्रेड का प्रयोग करते है ज्यादातर वही इसका प्रयोग करते है। आज के समय में पीनट बटर को बहुत लोग जानते है। और हिंदुस्तान की बात करें तो सबसे ज्यादा हेल्थ और फिटनेस पर ध्यान देने वाले लोग इसका प्रयोग करते है।

इसका सबसे बड़ा श्रेय फिटनेस उद्योग (fitness industry) विशेष रूप से हेल्थ क्लब, जिम और जिम के कोच को जाता है।

ये सभी इसको बेचते भी है और अपने ग्राहकों को इसको लेने की सलाह भी देते है। इसके मुकाबले में अगर हम अमेरिका की बात करे तो वहां करीब 92% से 94% तक घरो में पीनट बटर (peanut butter) का उपयोग होता है।

आजकल एक नया चलन है कि मासाहारी लोग शाकाहारी (Vegetarian and Vegan lifestyles) बन रहे है और ख़ास कर अगर वे फिटनेस से संबंधित है तो अपनी प्रोटीन की जरुरत को पूरा करने के लिए वे इसका प्रयोग करते है। 1 tbsp (16gm) पीनट बटर में करीब 4gm प्रोटीन होता है। अगर इसके बनाने की बात करें तो ये कुछ नहीं बस भुनी हुई मूंगफली को पिसा जाता है जब तक उनका पेस्ट ना बन जाए मतलब ये इतना आसान है कि कोई भी इसको घर पर बना सकता है। मार्किट में आने वाले पीनट बटर (peanut butter) कुछ कुछ मिलकर इसके स्वाद को बदलते रहते है जैसे चीनी, वनस्पति तेल, अलग-अलग स्वाद (artificial flavours) इत्यादि।

मेरी सलाह ये है कि अगर आपको इसे इसके शुद्ध रूप में ही प्रयोग करें जिसको बिना कुछ अलग चीजे मिलाये(Unsweetened, No added Sugar, No added Salt, No Hydrogenated Oils etc.) सिर्फ भुनी हुई मूंगफली से बनाया गया हो।

इसके फायदों को देखे तो इसमें कई पोषक तत्व होते हैं जो स्वास्थ्य को बहुत लाभ प्रदान करते है जैसे Phosphorus, potassium, zinc, folate, vitamin E, Niacin (B3), Manganese, Vitamin B6, Magnesium और भी बहुत कुछ।

पीनट बटर (peanut butter) के फायदे
सबसे पहले पौषक तत्वों की बात करें तो 100-ग्राम मूंगफली का मक्खन हमें मिलता है-

  • Protein: 26 grams
  • Calories: 593 kcal
  • Fat: 50 grams
  • Carbohydrate: 17 grams
  • Fiber: 8.5 grams
  • Omega-6: 15.56 grams
  • Vitamin E: 45% of the RDA
  • Vitamin B6: 27% of the RDA
  • Vitamin B3 (Niacin): 67% of the RDA
  • Folate: 18% of the RDA
  • Magnesium: 39% of the RDA
  • Copper: 24% of the RDA
  • Manganese: 73% of the RDA

वजन बढ़ाने और कम करने में मदद-
जी हैं अगर आप इसको संतुलित मात्रा में खाते है तो ये आपके पेट को भरा भरा सा रखता है जिस से आपको जल्दी से भूख नहीं लगती और आप ज्यादा खाना नहीं खाते जिस से आप को वजन कम करने में मदद मिलती है और अगर आप प्रतिदिन इसको थोड़ी ज्यादा मात्रा में खाते है जैसे मैंने ऊपर बताया 100gm पीनट बटर में 593 kcal होती है अब जैसे आपने इसको केले के शेक में मिलाकर पिया तो ये आपका वजन बढ़ाने में आपकी मदद करेगा।

शाकाहारी (Vegetarian and Vegan lifestyles) लोगो के लिए बढ़िया प्रोटीन-
पीनट बटर में लगभग 25% प्रोटीन होता है, जो इसे एक बेहतरीन plant-based protein स्रोत बनाता है। अब ये प्रोटीन आपके muscle building में बच्चों में स्वस्थ विकास को बढ़ावा देता है।

यह आपके दिल के रोग और मधुमेह के खतरे को कम करने में-
पीनट बटर (peanut butter) में ओमेगा -6 होता है। यह एक फैटी एसिड (fatty acid) जो खराब (LDL) कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और सुरक्षात्मक (HDL) कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। इसमें ओलिक एसिड (Oleic acid) पाया जाता है जो शरीर के इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में मदद करता है जिस से मधुमेह का खतरा कम होता है। National Library of Medicine के अनुसार मूंगफली के मक्खन (peanut butter) में पाए जाने वाले स्वस्थ वसा (healthier fats) को खाने से कोलेस्ट्रॉल की परेशानी सही होती है इसी तरह American Diabetes Association ने भी बताया है कि इस से type 2 मधुमेह को होने से भी बचा जा सकता है।

पित्त की पथरी को बनने से रोकना-
आयुर्वेदा के अनुसार अगर आपका पित्त दोष संतुलित रहेगा तो आपको कभी पित्त की पथरी नहीं होगी और मूंगफली हमारे शरीर में पित्त दोष संतुलित करती है तो पित्त की पथरी को बनने से रोकती है। विज्ञान की भाषा में कहे तो पित्त की पथरी को बनने में कोलेस्ट्रॉल का बहुत बड़ा हाथ हो और मूंगफली का मक्खन इसको कम करता है।

कैंसर से बचाव-
मूंगफली एंटीऑक्सिडेंट का एक बड़ा स्रोत है जैसे मैंगनीज, विटामिन ई और बी विटामिन। ये आपके शरीर में कोशिका क्षति (cell damage ) को रोकने में मरम्मत करता है जिस से कैंसर जैसी बीमारियों के जोखिम कम होता है। इसमें एक बहुत प्रभावशाली एंटीऑक्सिडेंट p-coumaric acid और resveratrol होते है जो हमारे शरीर में कैंसर पनपने से बचाते है। शोध से तो ये भी पता चला है कि सप्ताह में दो बार मूंगफली का सेवन करने से पुरुषों में 27% और महिलाओं में लगभग 58% तक कैंसर होने के जोखिम को कम हो जाता है।

एक पोषण विशेषज्ञ होने के नाते मेरी राय में प्रकर्ति का दिया हुआ ये  वरदान जिसके इतने सारे फायदे है और सबसे बड़ी बात ये अपने शुद्ध रूप में ही खाया जाता है जैसे मैंने पहले बताया कि अगर आप इसके फायदे लेना चाहते है तो इसको बाजार से लेने से पहले ये जरूर चेक करें कि इसमें भुनी हुई मूंगफली के अलावा कुछ और तो नहीं मिलाया हुआ और सबसे बढ़िया तो ये होगा की आप इसको घर पर ही बना ले।

अगर आपको हमारा ये लेख – “पीनट बटर खाने के क्या फायदे हैं? पोषण विशेषज्ञ के रूप में इस पर मेरी क्या राय है? (Benefits of eating peanut butter and as a nutritionist my opinion on this)” पसंद आया हो तो अपनी प्रतिक्रिया(comments) जरूर लिखें।

5 Comments

  1. Very good article. can u suggest any good company’s peanut butter.

    1. jaldi hi aapko best peanut butter jo india main milte hai unki list ka article mil jaayega. bass aap blog ko subscribe karle jis se aap ko weekly new articles ka alert mil jaaye

  2. काफ़ी आसान तरीक़े से समझाया आपने। इसके काफ़ी फ़ायदे भी बताए । किस कम्पनी का लेना सही रहेगा ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: